Different Signal Number – पोर्ट पर लगाए गए 1 से 12 सिग्नल का क्या अर्थ है? जानिए कब किस नंबर का सिग्‍नल लगाया जाता है?

हम अक्सर बारिश के मोसम में सुनते हे की समूद्र पर Different Signal Number लगाए जाते है । हर signal Number का अलग अलग मतलब होता है। आइए आज हम जानते हैं उन सभी Different Signal Number के बारे में विस्तार से।

जानिए कैसे पोर्ट में डाले गए सिग्नल का क्या महत्व है? उस समय से अवगत रहें जब विशेष संख्या का उपयोग किया जाता है।

Different Signal Number – 11 नंबर वाले ज्यादातर सिग्नल पूरे भारत में इस्तेमाल किए जाते हैं। कभी-कभी, सिग्नल संख्या 12 का उपयोग किया जाता है। 1946 में, हवा की गति और हवा की गति पर विचार करते समय, 17 संकेतों को लागू करने का निर्णय लिया गया।

जानिए कैसे: पोर्ट में डाले गए Different Signal Number का क्या महत्व है? किस समय कौन सा नंबर लगाया जा रहा है, इसके बारे में जागरूक रहें।

पोर्ट पर रखे गए संकेतों के अलग-अलग अर्थ हो सकते हैं

Different Signal Number- प्रत्येक वर्ष, मानसून के दौरान या चक्रवात (चक्रवात) की स्थिति में तीन अंकों के संकेत या एक संख्या के तट पर स्थापित होने की कहानियाँ होती हैं। समुद्र से आने वाले तूफानों या तट पर तेज़ हवाओं के चलने की प्रतिक्रिया में बंदरगाह पर Different Signal Number लगाए जाते हैं। तट पर चलने वाली हवाओं की गति और दिशा के आधार पर बंदरगाह में Different Signal Number लगाए जाते हैं। 1 से 12 के बीच के सिग्नल लगाए जाते हैं। इसके आधार पर समुद्र में स्टीमर, नाव या जहाज के कप्तान को पता चल जाएगा कि समुद्र का खुरदरापन क्या होगा। जब सिग्नल पर संख्या बढ़ जाती है तो माना जाता है कि तूफान बढ़ रहा है।

यह भी पढ़े: Weather Forecast : गुजरात पर फिर चक्रवात का खतरा

पता करें कि कब, और किस नंबर को अधिसूचित किया गया है?

सिग्‍नल नंबर 01 यदि आप पांच से एक किलोमीटर के बीच हवा की गति देखते हैं तो सिग्‍नल नंबर एक सक्रिय हो जाता है। हवा बहुत हिंसक नहीं है।

सिग्‍नल नंबर-02 जब छह से बारह किमी प्रति घंटे के बीच हवा का झोंका आता है। नहीं। 2 को पोर्ट के ऊपर उतारा गया है।

सिग्नल संख्या 03: इस प्रकार के सिग्नल का उपयोग 13 से 20 किलोमीटर के बीच हवा के वेग से चलने की स्थिति में किया जाता है।

सिग्‍नल नम्‍बर-04: सिग्‍नल नम्‍बर जिसका उपयोग समुद्र तट पर 21 से 29 किमी/घंटा की गति से हवा चलने पर किया जाता है।

सिग्नल नंबर 05: हवा की गति 30 से 39 किमी के बीच होने पर पोर्ट पर सिग्नल नंबर 5 लगाया जाता है।

सिग्नल संख्या 06: यदि समुद्र में हवा की गति 40-49 किमी के बीच होती है तो बंदरगाह पर अलार्म सिग्नल 6 प्रदर्शित होता है।

सिग्‍नल नंबर 07: अगर हवा की गति 50 से 61 किमी तक हो तो सिग्‍नल सात को पोर्ट के ऊपर लगाया जाता है।

सिग्नल नंबर 08: यदि आप नोटिस करते हैं कि समुद्र या किनारे पर चलने वाली हवाओं का वेग 72 और 74 किमी प्रति घंटे के बीच है तो अलर्ट नंबर 8 सिग्नल बंदरगाहों में दिखाया जाएगा।

सिग्नल नंबर 09: यदि हवा की गति 75-88 किमी है तो अलार्म नंबर 09 प्रस्थान के बिंदु पर प्रदर्शित होगा।

सिग्नल संख्या 10: समुद्र में हवा की गति 90 से अधिक लेकिन 100 किमी/घंटा से अधिक नहीं होने पर सिग्नल संख्या 10 को बंदरगाह पर नीचे कर दिया जाता है।

सिग्नल नंबर-11: समुद्र को पार करने वाली तेज हवाओं की गति 103 से 118 किलोमीटर प्रति घंटे तक हो सकती है। यदि हवा उस गति से चल रही है तो बंदरगाह के सामने सिग्नल संख्या 11 प्रदर्शित होगा।

सिग्नल नंबर 12: यदि तूफानी हवा की गति 119 से 220 किलोमीटर के बीच हो तो सिग्नल नंबर 12 पोर्ट के ऊपर स्थित होता है।

Different Signal Number – 11 नंबर वाले ज्यादातर सिग्नल पूरे भारत में इस्तेमाल किए जाते हैं। कभी-कभी सिग्नल नंबर 12 का उपयोग किया जाता है। 1946 में हवा की गति को ध्यान में रखते हुए 17 संकेतों का उपयोग करना आवश्यक समझा गया। हालाँकि, उनमें से अधिकांश का उपयोग 12 नंबर तक किया जाता है। भारत में ग्यारह नंबर ऊपर जाने वाले संकेतों का आमतौर पर उपयोग किया जा सकता है।

Home PageClick Here
Whatsapp GroupClick Here
Different Signal Number - पोर्ट पर लगाए गए 1 से 12 सिग्नल का क्या अर्थ है? जानिए कब किस नंबर का सिग्‍नल लगाया जाता है?

Different Signal Number FAQs:

पोर्ट सिग्नलके लिए कुल कितने नंबर use किए जाते हैं?

अधिकतर सिग्नल नम्बर 11 तक use किए जाते है।

सिग्नल की संख्या बढ़ने पर क्या समझना चाहिए?

सिग्नल की संख्या बढ़ने पर तूफान खतरा समुद्र में और ज्यादा बढ़ रहा है ऐसा अर्थ होता है।

2 thoughts on “Different Signal Number – पोर्ट पर लगाए गए 1 से 12 सिग्नल का क्या अर्थ है? जानिए कब किस नंबर का सिग्‍नल लगाया जाता है?”

Leave a Comment